Nonveg hindi story

नेशनल हाइवे पर उस्मान भाई की इकलौती पंचर बनाने की दूकान थी।
गुजरते ट्रकों के पंचर बनाते बनाते उस्मान भाई बालक से जवान हुआ था।
,

एक रोज पास के जंगल में एक लड़की की चीख सुनकर उस्मान भाई वहाँ गया तो देखा चार मवाली एक लड़की की इज्जत लूटने की फिराक में थे।

,
उस्मान भाई ने चारों को धोकर रख दिया। वे भाग गए,

और लड़की उस्मान भाई पर आशिक हो गई।
उसके पीछे पीछे दूकान तक आ गई।
,

,

उस्मान भाई पंचर बनाने के कामधाम में लग गया।
.

.

.
लड़की ने उसे खूब लटके झटके दिखाए लेकिन उस्मान भाई ने कोई ध्यान ही नहीं दिया।
.

.

.

.
लड़की ने अपने सारे कपड़े उतार दिए और अगले पिछले ऊपर नीचे सब जगह के जलवे उस्मान भाई को दिखाए मगर मामला फिर भी नहीं जमा।
.

.

.

.
जलभुनकर गुस्से में लड़की ने कहा कि,
मैं पास के तालाब में मरने जा रही हूँ।
.

.
फिर वो सचमुच जाकर तालाब में कूद गई।
.

.

उस्मान भाई भी उसके पीछे भागा और उसे बचाने के लिए तालाब में कूद गया।
.

.

.

.

.

तालाब के अंदर उस्मान भाई ने लड़की के साथ इतना धुंवांधार सेक्स किया कि लड़की के प्राण काँप गए।
.
.

.

.

.

बाद में लड़की ने उस्मान भाई से पूछा कि
मैंने जब अपनी जवानी परोसी तब तुमने कुछ नहीं किया,
और
मैं जान देने तालाब में कूदी तो वहाँ तुमने मेरा कचूमर बना डाला,
क्यों ??

उस्मान भाई बोला—
” जी, दरअसल बात ये है कि, मुझे
छेद पानी में ही नजर आता है।
सारी जिंदगी पंचर जो बनाता रहा हूँ..!!! ”
???????